Gujarat Masiha Housing Scheme 2022 Labour Registration Apply Online Application Form

Gujarat Masiha Housing Scheme 2022 Labour Registration Apply Online Application Form For Low Cost House Scheme मसीहा आवास योजना through official website gujarathousingboard.gujarat.gov.in & gujaratindia.gov.in. Check Mukhyamantri Audyogik Shramyogi Ane Industrial Housing Awas Yojana Eligibility, Required Documents, Application Status, How To Apply Online.

Gujarat Masiha Housing Scheme 2022 Labour Registration Form

Masiha Housing Scheme Gujarat – गुजरात में कार्य करने वाले मजदूर-वर्ग के हितों को देखते हुये सूबे की सरकार द्वारा ‘मसीहा हाउसिंग स्कीम’ (Masiha housing scheme) की घोषणा की गई 3 मार्च, 2021 को। राज्य सरकार का बजट पेश करते हुये उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल द्वारा इसे घोषित किया गया।

इसका वास्तविक नाम — ‘मुख्यमंत्री औद्दौगिक श्रमयोगी एवं इंडस्ट्रियल हाउसिंग आवास योजना’ है। इसे ही संक्षेप में गुजरात सरकार की ‘मसीहा हाउसिंग योजना’ कहा जाता है। पीपीपी मॉडल (PPP model) पर आधारित यह योजना गुजरात में काम करने वाले कामगारों को उनके कार्यस्थल के निकट ही आवास उपलब्ध कराने के लिये है।

Masiha Housing Scheme Gujarat Application Form

गौरतलब है कि अभी कोरोना संकट में लगे लॉकडाउन के दौरान मजदूर-वर्ग में काफ़ी उथल-पुथल देखी गई। इस दौर में मची अफरातफरी में जाने कितने मजदूर अपना काम जैसे का तैसा छोड़कर अपने वतन चले गये थे। इससे न केवल कारखानों का उत्पादन बेहद प्रभावित हुआ, मजदूरों को भी तमाम संकट झेलने पड़े। इसके मद्देनज़र ही गुजरात सरकार द्वारा ‘मसीहा आवास योजना’ लाई गई। ताकि मजदूरों को उनके काम करने की जगह के नजदीक ही रियायती दर पर आवास प्रदान करने की व्यवस्था की जा सके। शुरुआती तौर पर गुजरात सरकार द्वारा इस योजना के लिये करीब डेढ़ हजार करोड़ रूपये की व्यवस्था की गई।

Gujarat Low Cost House Scheme Apply Online

गुजरात सरकार के ‘मसीहा हाउसिंग योजना’ के तहत आवास प्राप्त करने के इच्छुक लाभार्थियों को इसके लिये आवेदन करना होता है। आवेदन करने के लिये कुछ ज़ुरूरी अर्हतायें भी निश्चित की गई हैं। इसके लिये सबसे पहले तो आपको गुजरात के श्रम विभाग में एक पंजीकृत (registered) मजदूर होना चाहिये। फिर यह भी अनिवार्य है कि आपको गुजरात में ही स्थित किसी उद्दोग में कार्यरत होना चाहिये। और आपके पास स्वयं अथवा परिवार के नाम कोई मकान नहीं होना चाहिये।

उपरोक्त अर्हतायें या योग्यतायें पूरी करने वाले गुजरात के मजदूर ‘मसीहा आवास योजना’ के लिये ‘ऑनलाइन’ (online) आवेदन कर सकते हैं। इसके लिये ज़ुरूरी दस्तावेज़ों में उनके पास — आधार कार्ड, लेबर कार्ड(labour card), गुजरात में स्थित किसी उद्दोग में कार्यरत होने संबंधी प्रमाण-पत्र और नया पासपोर्ट साइज़ फोटो होना चाहिये। इसके बाद ‘मसीहा आवास योजना’ के अंतर्गत ऑनलाइन (online) आवेदन काफ़ी सहज है, और यह बहुत कुछ प्रधानमंत्री आवास योजना की तरह ही है। जिसमें आपको आवश्यक दस्तावेज़ों को संलग्न कर मांगे गये ज़ुरूरी विवरण भरकर ‘सबमिट’ (submit) करने होते हैं।

गुजरात श्रम विभाग में पंजीकरण

उपरोक्त जानकारी से स्पष्ट है कि गुजरात सरकार की ‘मसीहा आवास योजना’ अथवा इसके सिवा मजदूरों के लिये चलाई जाने वाली किसी अन्य जनकल्याणकारी योजना का लाभ पाने के लिये दूसरी सामान्य अर्हताओं के अलावा सबसे ज़ुरूरी है लाभार्थी का श्रम विभाग में पंजीकृत (registered) होना। जिसके बाद आपको ‘लेबर कार्ड’ (labour card) के रूप में एक श्रमिक होने की वैध पहचान हासिल हो जाती है। गुजरात श्रमिक कार्ड या लेबर कार्ड के लिये ऑनलाइन(online) व ऑफलाइन (offline) दोनों तरह से आवेदन किया जा सकता है। इसके लिये आयु-सीमा 18 से 40 वर्ष तक है।

Mukhyamantri Audyogik Shramyogi Ane Industrial Housing Awas Yojana Benefits

पंजीकरण के बाद कोई व्यक्ति सरकार द्वारा मजदूरों के हित में चलाई जा रही तमाम योजनाओं, जैसे — मजदूरों को मकान, बिजली कनेक्शन(power connection),चिकित्सीय सेवाओं, दुर्घटना बीमा, महिलाओं संबंधी योजनाओं आदि का लाभ आसानी से उठा सकता है। महिलाओं को इसके तहत प्रसव के समय पंद्रह हजार रूपये की सरकारी सहायता मिलती है।मजदूरों के बच्चों को साइकिल प्रदान की जाती है। अगर कोई मजदूर विकलांगता का शिकार होता है, तो उसे सरकार द्वारा आर्थिक मदद मिलती है। इसके अलावा पंजीकरण के बाद मजदूर द्वारा चलाई जा रही किसी बीमा योजना का भुगतान भी सरकार करती है। और किसी कारणवश यदि मजदूर की मृत्यु हो जाती है, तो सरकार उसके परिवार को डेढ़ लाख रूपये की आर्थिक मदद मुहैया कराती है। कुल मिलाकर श्रमिक अथवा लेबर कार्ड(labour card) होने से हर पंजीकृत मजदूर की कमजोर आर्थिक दशा में सुधार होता है।

Masiha Housing Scheme Gujarat Eligibiltiy Criteria

गुजरात में श्रमिक कार्ड बनवाने के लिये किसी भी क्षेत्र का हर कामगार आवेदन कर सकता है। जैसे — राजमिस्त्री, बढ़ई, लोहार, रंगाई-पुताई करने वाले, हथौड़ा चलाने वाले, बांध बनाने वाले,  सड़क निर्माण करने वाले, रोलर चलाने वाले, ईंट भट्ठों पर काम करने वाले, भवन निर्माण करने वाले, छप्पर छाने वाले, सेटरिंग(settering) का काम करने वाले या फिर नरेगा के मजदूर।

Required Documents For Gujarat Masiha Housing Scheme

गुजरात श्रमिक कार्ड योजना में आवेदन करने के लिये व्यक्ति के पास कुछ दस्तावेज़ होने चाहिये। इनमें उसका — आधार कार्ड, पहचान पत्र, बैंक खाता, जाति प्रमाण-पत्र, राशन कार्ड, मूल निवास प्रमाण-पत्र, पासपोर्ट साइज़ फोटो, मोबाइल नंबर होना चाहिये। और इसके अलावा अभ्यर्थी के पास नरेगा का जॉब-कार्ड(job-card) या किसी ठेकेदार के पास काम करने का प्रमाण भी होना चाहिये।

How To Apply Online For Masiha Housing Scheme Gujarat?

गुजरात श्रमिक कार्ड के लिये जैसा कि पहले ही ज़िक्र किया जा चुका है, कि ऑफलाइन व ऑनलाइन दोनों तरह की प्रक्रिया मौज़ूद है। पर जो मजदूर या व्यक्ति ऑफलाइन प्रक्रिया के तहत श्रम विभाग जाकर आवेदन करने के बाद बार-बार दफ़्तरों के चक्कर नहीं लगाना चाहते, उनके लिये ऑनलाइन व्यवस्था भी है।जिस भी व्यक्ति को गुजरात श्रमिक कार्ड या लेबर कार्ड के लिये ऑनलाइन आवेदन करना हो, वह अपने नजदीकी ‘ई-मित्रा'(E-mitra) ग्राहक सेवा केंद्र(CSC) पर जाकर ऐसा आसानी के साथ कर सकता है। इसके अलावा आप स्वयं भी विभाग की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर इंटरनेट(internet) की मदद से ‘लेबर कार्ड'(labour card) के लिये आवेदन कर सकते हैं।

श्रम विभाग की ऑफिशियल वेबसाइट (official website) पर जाते ही आपके सामने इसका मुख्य पेज खुलकर आता है, यहां आपको ‘नया पंजीकरण’ (new registration) वाले विकल्प पर क्लिक (click) करना होता है। इसके बाद जो दूसरा पेज आपके सामने खुलकर आता है इसमें आपको अपने कुछ विवरण, जैसे — नाम, पिता का नाम, जन्मतिथि आदि जानकारियां भरनी होती हैं। इसे भरकर ‘ओके'(OK) कर देने के बाद अगले पेज पर आवेदक को मांगे गये दस्तावेज़ों को अपलोड(upload) करके ‘सबमिट’ यानी जमा कर देना होता है। इसके बाद फिर आपके सामने खुलकर आये पेज पर कुछ अन्य जानकारियां भरकर ‘ओके'(OK) करना होता है। और इस तरह गुजरात श्रमिक कार्ड या ‘लेबर कार्ड’ के लिये आपका आवेदन पूरा हो जाता है।

इस तरह आवेदन के कुछ ही दिनों बाद सरकार की ओर से आवेदक के नाम ‘लेबर कार्ड'(labour card) ज़ारी कर दिया जाता है, और वह ज़ारी सूची में अपना नाम देख सकता है। इसके अलावा यदि मजदूरों को गुजरात श्रमिक कार्ड या ‘लेबर कार्ड’ (labour card) के संबंध में कोई समस्या आती है, तो वह इस हेतु सरकार द्वारा ज़ारी मुफ़्त हैल्पलाइन नंबर पर भी संपर्क कर सकता है। गुजरात श्रमिक कार्ड के लिये यह हैल्पलाइन नंबर(free helpline number) है —
18001800999

इस तरह साफ है कि गुजरात सरकार की ‘मसीहा आवास योजना’ हो अथवा मजदूरों के निमित्त चलाई जाने वाली कोई भी अन्य जनकल्याणकारी योजना, श्रमिक कार्ड बनवाकर उनका आसानी से लाभ उठाया जा सकता है।

Leave a Comment